Doraemon Wiki
Advertisement
Doraemon Wiki
Doraemon mangacover

जापानी "डोरेमोन" के संस्करण १ का कवर

असली "डोरेमोन" माँगा उपनाम फुजीको फ. फुजियो के साथ हिरोशी फुजीमोटो ने लिखा था। इसे १९६९ से १९९६ तक शोगाकुकान के बच्चों की पत्रिकाओं में प्रकाशित किया गया। वह कई दूसरे फ्रैंचाइज़ियों के साथ 'डोरेमोन' का पहला परिचय था। जैसे यह कॉमिक कामयाब हुआ, एक काफी कामयाब ऐनिमे धारावाहिक को भी बनाया गया। इस तरह डोरेमोन खुद ही जापान का एक सांस्कृतिक प्रतिनिधि बन गया। २०२० तक इस कॉमिक धारावाहिक के १ करोड़ से ज़्यादा कॉपी बिक चुके हैं, जिससे 'डोरेमोन' दुनिया के सबसे ज़्यादा बिकने वाले कॉमिक धारावाहिकों में से एक बना है।

'डोरेमोन' कॉमिक को पैंतालीस संस्करणों में प्रकाशित किया गया है (जिन्हें "तानकोबोन" [単行本] कहा जाता है)। इन्हें १९७४ से १९९६ तक शोगाकुकान के 'तेंतोमुशी कॉमिक्स' इंप्रिंट के अंदर प्रकाशित किया गया है। पूरी रचना में कुल १३४५ कहानियाँ हैं, जिनमें से ८२३ तेंतोमुशी कॉमिक्स के हैं। क्योंकि हर कहानी में लगने वाले पन्नों की मात्रा एक जैसी नहीं है, बाकी बचे पृष्ठों में सुधार और छूट गए पैनल डाले जाते हैं।

प्लॉट[]

स्कूल में नोबिता की असफलता ने नोबी परिवार को भविष्य में पैसों की कमी के मुसीबत में डाल दिया है। इसे देखते हुए नोबिता का परपरपोता एक नीले कैट-रोबोट डोरेमोन को नोबिता के ज़माने में भेजता है, इस आशा से कि नोबिता के बाकी सभी वंशज एक खुशहाल ज़िन्दगी जी पाएँगे।

कॉमिक की सारी कहानियाँ एक ही प्लॉट पर आधारित है - नोबिता, कहानी का मुख्य पात्र, अपने पड़ोस में या अपने दोस्तों के साथ किसी मुश्किल में पड़ता है और वह डोरेमोन के पास मदद के लिए कोई यंत्र माँगने आता है। डोरेमोन उसे यंत्र देता है और उसे इसका इस्तेमाल करना सिखाता है और नोबिता इससे अपना बदला लेता है या दूसरों की मदद करता है, पर ज़्यादातर बार उसका गलत इस्तेमाल करने लगता है। उसके दोस्त जियान और सुनियो कभी-कभी उन यंत्रों को छीन लेते हैं और या तो वे मुसीबत में फसते हैं या नोबिता। हालाँकि, कभी-कभी अंत अच्छा होता है और नोबिता या उसके दोस्तों को एक नई सीख मिलती है।

दर्शक[]

इस धारावाहिक को बच्चों के लिए बनाया गया था और इसलिए इसे कई बच्चों की पत्रिकाओं में छापा गया है। इसके ज़्यादातर अंत दर्शकों द्वारा बनाए गए हैं। इसके तीन आंतों की योजना हुई थी पर फुजीको टीम ने धारावाहिक को बचाए रखने का सोचा। इसलिए इस समय बनने वाले सभी "अंत" नकली हैं, खासकर की जो हिन्दी में बनते हैं।

Advertisement